Sunday, July 7, 2024

Rangey Raghav's 'Tufanon ke beech'- an authentic yet sensitive reportage on Bengal famine

The Bengal famine of 1942-44 was one of the worst human-made disasters of the modern history because of which 2.1 to 3 million people lost their lives not only due to starvation but also from various diseases. Multiple researchers and analysts, including Amartya Sen, have pointed out that the famine resulted from the wartime policies of the then British PM Winston Churchill of not allocating enough food grains to the drought hit region and instead exporting them to Britain which was engulfed in the second world war at the time. 

Monday, July 1, 2024

'अरे यायावर रहेगा याद?'- अज्ञेय का बहुआयामी यात्रा-संस्मरण

 


1953 में प्रकाशित अज्ञेय द्वारा लिखा गया यात्रा-संस्मरण, अरे यायावर रहेगा याद? हिंदी साहित्य के इतिहास में संग्रहणीय है।  आठ अध्याय में विभाजित यह कृति एक महत्वपूर्ण दस्तावेज है जो भारतीय उपमहाद्वीप के स्वतंत्रता संग्राम के समय के इतिहास,  भूगोल, और राजनीति को समग्रता से समेटे हुए है। यह यात्रा-संस्मरण अज्ञेय के अनुभवों का संग्रह है जो उन्होंने द्वितीय विश्व-युद्ध के अंत और स्वतंत्रता-संग्राम के समय में अपनी यात्राओं के  दौरान प्राप्त किए थे।

Sunday, April 2, 2023

महाश्वेता देवी की कृति ‘झाँसी की रानी’ में इतिहास और उपन्यास के समन्वय की झलक

 


झाँसी की रानी’ महाश्वेता देवी की 1956 में बांग्ला में प्रकाशित प्रथम गद्य रचना है जिसका हिन्दी में अनुवाद डॉ रामशंकर द्विवेदी ने किया है। इस उपन्यास को लिखने के बाद ही महाश्वेता देवी का लेखन-जीवन शुरु हुआ। इसमें लक्ष्मीबाई के जीवन-चरित्र का ही नहीं बल्कि 1857 के ब्रिटिश-शासन के विरुद्ध प्रथम भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम में उनके संघर्ष का प्रामाणिक चित्रण भी है जो भारत के विभिन्न क्षेत्रों में दो वर्षों तक चला। यह कृति महाश्वेता देवी के अथक परिश्रम और लगन का परिणाम है जिसे लिखने के लिए उन्होंने 26 वर्ष की उम्र में अपनी छोटी बेटी को छोड़कर झाँसी, ग्वालियर, कालपी, जबलपुर, पूना, इन्दौर आदि की यात्राएं कीं। इस उपन्यास में केवल एक तेजोमय रानी का ही परिचय नहीं मिलता है, बल्कि कहीं हमारे समक्ष एक वीरता से ओत-प्रोत उत्साहित, कहीं दया और वेदना से भरी और कहीं नितान्त निरुपाय स्त्री प्रस्तुत होती है। इसमें लक्ष्मीबाई के विवाह से लेकर झाँसी पर उनके शासन काल की घटनाओं को साक्ष्यों के साथ चित्रित किया गया है। लेखिका ने तत्कालीन झाँसी और उसके आसपास की भौगोलिकता और झाँसी के विभिन्न स्थलों का महत्वपूर्ण घटनाओं के सन्दर्भ में उल्लेख किया है; साथ ही वहाँ के जनजीवन में रानी के प्रति अगाध श्रद्धा का सम्पूर्णता से वर्णन भी मिलता है।

Thursday, November 3, 2022

मैत्रेयी पुष्पा के उपन्यास इदन्नमम में उतरती बुन्देलखण्ड की तस्वीर



भौगोलिक और सांस्कृतिक विविधताओं से युक्त बुन्देलखण्ड में उत्तर प्रदेश तथा मध्य प्रदेश दोनों के ही भाग समाहित है। यह प्रदेश विन्द्याचल की उपत्यकाओं से घिरा हुआ है। बुन्देलखण्ड में अनेक जनजातियाँ जैसे राउत, भील, सहारिया, शबर, कोल, निषाद, पुलिंद, किराद, नाग आदि रहती थीं जिनकी अपनी-अपनी स्वतन्त्र भाषाएं थीं। यहाँ अलग-अलग स्थान पर बोलियों का स्वरूप बदल जाता है जैसे डंघाई, चौरासी, पवारी, विदीशयीया आदि। परन्तु बुन्देली इस प्रदेश की मुख्य बोली है। पिछले 700 वर्षों से बुन्देली में साहित्य रचना हुई है जिसमें मौखिक परम्परा के महाकाव्य आल्हाखण्ड गायन शैली का विशेष महत्व है। मौखिक परम्परा का होते हुए भी आल्हा गायन बुन्देली बोली और संस्कृति का प्रथम महाकाव्य है। इसके रचयिता जगनिक हैं। यहाँ के प्रत्येक गाँव में घनघोर वर्षा के दिन आल्हा गाया जाता है। जगनिक के बाद विष्णुदास द्वारा रचित कथा काव्य महाभारत कथा और रामायण कथा बुन्देली के प्रथम ग्रन्थ हैं जिनकी रचना क्रमशः 1435 ई तथा 1443 ई में हुई।     

हिन्दी साहित्य में बुन्देली भाषा को अन्य भाषाओं जैसे राजस्थानी, भोजपुरी गुजराती बृज आदि की अपेक्षा कम महत्व दिया गया है। प्रचलित माध्यमों में बुन्देली का प्रयोग देखने को नहीं मिलता।  परन्तु हिन्दी साहित्य की महत्वपूर्ण साहित्यकार मैत्रेयी पुष्पा ने अपनी रचनाओं में बुन्देली भाषा को प्रमुखता दी है। उनकी रचनाओं में इदन्नमम उपन्यास उल्लेखनीय है। उपन्यास में बुन्देली भाषा सहजता से प्रवाहित होती हुई बुन्देलखण्ड के जनजीवन और परिवेश से तादात्म्य बनाए रखती है। बहुलता से प्रयोग किए जाने पर भी उससे कहानी में कहीं व्यवधान उत्पन्न नहीं होता है। बुन्देली के साथ उपन्यास में खड़ी हिन्दी बोली भी प्रयुक्त हुई है। बुन्देली भाषा विशेषकर पात्रों के आपसी संवादों और लोकगीतों में देखने को मिलती है। मैत्रेयी पुष्पा ने इस उपन्यास में बुन्देलखण्ड के शहरी तथा ग्रामीण दोनों ही परिवेश का चित्रण किया है लेकिन मुख्य रूप से इसमें ग्रामीण परिवेश का चित्रण मिलता है। अत्यन्त सहजता से किया गया स्वभाविक चित्रण बुन्देलखण्ड के वातावरण को पाठक के समक्ष प्रस्तुत कर देता है जो कि अधिकांश आधुनिक हिन्दी उपन्यासों में नहीं मिलता।

Saturday, January 29, 2022

The Violence and Horror Strewn Modern Mythological Novels



The relationship of religion and literature has undergone a transformation lately, because of which novels based on mythological stories have become increasingly popular. The mythological characters have been presented in a new avatar in these novels and thus, quite skillfully, a specific kind of religiosity prevalent in the nation has been cashed in on; one which is aggressively backed by a culture of violence. Besides, these novels also relate in great details the practices of Brahmanism, casteism, untouchability, inequality and sectarian violence and hatred, which potentially create grounds for only further escalating these maladies. As a result, the looming danger of society regressing into primordial values is becoming realer by the day. Amish Tripathi’s The Immortals of Meluha and Ashok K Banker’s Prince of Ayodhya are two such novels which this article takes an analytical look at.

Monday, September 20, 2021

सूखा बरगद में परिलक्षित होती मंज़ूर एहतेशाम की सामाजिक परिस्थितियों से उपजी व्याकुलता

 


हाल ही में हिन्दी के सुप्रसिद्ध साहित्यकार मन्जूर एहतेशाम का निधन होने से स्वातंत्र्योत्तर हिन्दी साहित्य के एक विशिष्ट अध्याय का अंत हो गया। उनका जन्म 4 अप्रैल को भोपाल में हुआ था और वहीं पर उन्होंने अपनी अंतिम साँस भी ली। उन्होंने अनेक उपन्यास, कहानियाँ व नाटक लिखे जिनके लिए उन्हें सम्मानित किया गया।

उनकी प्रमुख कृतियों में से एक सूखा बरगद उपन्यास उनके बाह्य और आंतरिक संसार का एक विशिष्ट प्रतिबिम्ब रहा है जिसके लिए उन्हें श्रीकान्त वर्मा स्मृति सम्मान और भारतीय भाषा परिषद कलकत्ता का सम्मान प्राप्त हुआ। यह उपन्यास विभाजन के बाद के दौर को याद करते हुए तत्कालीन घटनाओं और माहौल का वर्णन करता है और साथ ही में 1971 में भारत-पाकिस्तान के युद्ध के समय की घटनाओं को भी समेटे हुए है। उपन्यास की कहानी इसके प्रमुख पात्र रशीदा और सुहेल के माध्यम से देश के वातावरण के युवा वर्ग पर पड़ने वाले प्रभाव पर टिप्पणी करती है।

Thursday, December 3, 2020

अतीत का एक पन्ना- झाँसी की डमडोली


 

x

 

नवम्बर की धीरे-धीरे बढ़ती हुई सर्दी में सुबह के समय छत पर टहलते हुए मैं देख रही थी कि धुँधले आसमान में चार-पाँच दिन से एक लाल रंग की पतंग रोज उड़ती है जो मेरा ध्यान आकर्षित करती थी। मैं सोचती थी कि कैसे स्वच्छंदता से उड़ती हुई एक अनजानी पतंग हर एक से रिश्ता बना लेती है। प्रतिदिन शान्त आसमान में पक्षियों के बीच उड़ती पतंग अपने में मगन रहती थी। कई दिन उस पतंग के उड़ते रहने के बाद एक दिन एकाएक दूसरी हरे रंग की पतंग भी उड़ने लगी। इसके बाद दोनों पतंगों में प्रतिस्पर्धा शुरू हुई। पहले से उड़ती शान्त पतंग चंचलता से झूमने लगी और ऊँचे आसमान में पहुँच गई। दूसरी पतंग धीरे-धीरे ऊपर बढ़ी और लाल पतंग से पेंच लड़ने लगी। तभी लाल पतंग ने उसे काट दिया। दूसरे दिन फिर वही हरी पतंग आई लेकिन पहले से उड़ती निर्भीक लाल पतंग का मुकाबला करने का साहस न कर सकी और नीचे उतर गई। तीसरे दिन हरी पतंग फिर चुपचाप से आई और पहले से पेंगें बढ़ाती लाल पतंग ने फिर उसका पीछा किया। थोड़ी देर दोनों पतंगों ने पेंच लड़ा लेकिन फिर हरी पतंग बीच में ही नीचे उतर गई। मैं बार-बार टहलना छोड़कर पतंगों की अठखेलियाँ देख रही थी।

Sunday, August 9, 2020

रांगेय राघव का रिपोर्ताज तूफानों के बीच- बंगाल के अकाल का एक संवेदनशील वर्णन




रांगेय राघव का लिखा रिपोर्ताज तूफानों के बीच  हिन्दी साहित्य की एक अमूल्य कृति है जिसको उन्होंने चार भागों में लिखा है- बाँध भाँगे दाओ, एक रात, मरेंगे साथ जिएंगे साथ  एवं अदम्य जीवन । यह रिपोर्ताज सन् 1942-44 के अन्तराल में बंगाल में पड़ने वाले भीषण अकाल की भयावहता का साक्षी है, जिसे पढ़कर वहाँ की विषम परिस्थितियों से उत्पन्न लेखक के अन्तर्मन की व्याकुलता प्रकट होती है। 

Saturday, November 9, 2019

दर्शकों के मन में हलचल पैदा करने वाले नाटक ‘खिड़की’ द्वारा रंगलोक नाट्य उत्सव का समापन




रंगलोक नाट्य महोत्सव के तीसरे संस्करण का इस गुरुवार आगरा शहर के सूरसदन प्रेक्षागृह में प्रिज़्म नाट्य समूह की प्रस्तुति के साथ सफल समापन हुआ। विकास बहरी द्वारा निर्देशित, कहानी के अन्दर कहानी कहता हुआ खिड़की  नाटक, एक लेखक के कहानी के अन्त को खोजने के द्वन्द को व्यक्त करता है। अपने में अलग प्रकार की संवेदनाओं को समेटे हुए यह नाटक दर्शकों को अन्त तक तन्मयता से डूब जाने को विवश करता है। दो पात्रों में सीमित नाटक की कहानी की सुन्दरता को दोनों ही कलाकारों के अपूर्व अभिनय ने अन्त तक बनाए रखा।
कहानी के मुख्य पात्र, जतिन सरना द्वारा अभिनीत, एक लेखक- वेद के माध्यम से अपने लेखन की प्रतिभा को स्वयं अपने और दूसरी पात्र, प्रियंका शर्मा द्वारा अभिनीत, वेदिका की दृष्टि से परखते हुए कहानी पात्रों के मन की गहराईयों में डूबती-उतराती दर्शकों के मन में हलचल पैदा करती है। वेदिका का सहज हास्य और सहज ही  भाव-विह्ववलता और उसके प्रत्युत्तर में वेद की उतनी ही सहजता से प्रतिक्रिया और संवेदना, एक उच्च स्तर के अभिनय-कौशल को व्यक्त करती है।
बिना किसी तड़क-भड़क के सहज-सरल रंगमंचीय सज्जा के साथ पात्रों के कुशल अभिनय से पूर्ण खिड़की नाटक, विकास बहरी के कुशल निर्देशन और सटीक प्रकाश व्यवस्था का भी परिचायक है। आगरा में ‘रंगलोक थियेटर उत्सव’ के अंतर्गत इस सराहनीय नाटक का मंचन, डिम्पी मिश्रा के रंगमंच के उत्तरोत्तर विकास के प्रयास को और ऊँचाईयाँ देने में निश्चित ही सहायक होगा।
अमिता चतुर्वेदी 

Tuesday, July 30, 2019

लुबना सलीम की ‘गुड़म्बा’ नाटक में एकल प्रस्तुति- एक लघु समीक्षा


‘गुड़म्बा’ मशहूर लेखक ज़ावेद सिद्दीकी द्व्रारा लिखित तथा सलीम आरिफ़ द्वारा निर्देशित एक संवेदनशील एकल नाटक, 27 जुलाई को सूरसदन प्रेक्षागृह में अभिनीत किया गया। नाटक के प्रारम्भ में सहजता से अभिमुख होती हुई, इस एकल नाटक की कलाकार लुबना सलीम ने क्षण भर में दर्शकों से आत्मीयता स्थापित कर ली, फिर एक पात्र में अनेक पात्रों को जीती हुई, कभी अपने जीवन के पुराने समय और कभी वर्तमान में दर्शकों को पहुँचाती रही। नाटक की मुख्य और एकमात्र पात्रा अमीना(लुबना सलीम) अपने पति, बेटे और बहू के साथ रहती है। एक औरत की समाज में निम्नतर स्थिति इस नाटक के माध्यम से स्पष्ट होती है, जिसको उसका पिता, पति और पति के घर वाले अपने आधीन रखते हैं।