Thursday, October 8, 2015

व्रत, त्यौहार और रीति-रिवाज: समाज के शिकंजे

भारतीय समाज में व्रत-त्योहार, रीति-रिवाज, मर्यादा, संस्कार आदि सभी स्त्रियों के लिये नियत किये गये हैं और सभी उन पर शिकंजा कसने के हथियार हैं। इनके जाल में उलझकर वो शनैः-शनैः अपनी समस्त स्वतंत्रता खो देती हैं। विवाह होते ही पहले दसवें दिन, फिर एक महिना, उसके बाद साल पूरा होने पर कुछ-कुछ छिरकवा कर लड़की को बदली हुई जीवन-शैली से अभ्यस्त कराया जाता है। एक महीने तक नई बहू को लाल या गुलाबी साड़ी में चौक पर बैठाकर ससुराल की कोई रिश्तेदार एक पारम्परिक गाना गाती है, जिसका कुछ भी मतलब समझे बिना वह सब कुछ एक कठपुतली की तरह करती जाती हैं। इसके बाद दिनचर्या में उसके बोलने-चालने, हँसने, चलने, उठने-बैठने, खाने-पीने इत्यादि सभी गतिविधियों को नियन्त्रित किया जाता है। स्त्रियों को अपनी इच्छा से कपड़े पहनने की स्वतंत्रता नहीं होती। बहुत से परिवारों में उनको पारम्परिक साड़ी पहनने के लिये बाध्य किया जाता है। इन सबसे धीरे-धीरे उनकी सभी रुचियाँ और प्रतिभा स्वतः ही अलोप होती जाती हैं। एक बँधे-बँधाए ढर्रे पर औरतों का जीवन चलता रहता है। वो भी इन सब की इतनी आदी हो जाती हैं कि उन्हें फिर से कुछ करने के लिये उद्द्यत करना बहुत ही कठिन हो जाता है। किसी समय में आदमी भी धोती कुर्ता पहनते थे।आज सभी पेंट-शर्ट पहनते हैंइसकी वजह पुरूष घर से बाहर जाकर पैसा कमाना बताते हैं। गौर किया जाये तो पहली स्वतंत्रता बाहर निकल कर पैसा कमाने से ही मिलती है जो पुरूषों को मिलती है। फिर इसी क्रम से जुड़ते हुए धीरे-धीरे सभी क्षेत्र में उनकी स्वतंत्रता का दायरा बढ़ता जाता है।
शादी के बाद औरतों को बाहर आर्थिक रूप से स्वावलम्बी बनने के लिये घर से निकलने नहीं दिया जाता। हाथ में धन रहने के कारण आदमी अपनी मर्जी के काम अधिकार पूर्वक करते हैं। औरतों को सभी कामों के लिये उन पर निर्भर रहना पड़ता है। उनको घर के काम करना, बच्चों और बड़ों की देखभाल करने का उत्तरदायित्व दिया जाता है। इस तरह स्त्रियों की आजादी का हनन होता जाता है। घर में दिन-भर काम करते हुए भी वे बेरोजगारों की श्रेणी में गिनी जाती हैं। उनके काम को कभी महत्व नहीं दिया जाता।  आज भी अधिकांश लड़कियों की प्राथमिकता घर सँभालना ही हैं। वो घर वालों की इसी परम्परावादी सोच को ही महत्व देती हैं। उनको अपनी इच्छा से ना चलने देकर उन्हें अपनी इच्छानुसार चलाने का पुरूषों का यह एक बहुत अच्छा तरीका है ।
इसके अतिरिक्त मेहमान घरों में अन्य सदस्यों से मिलने और बातें करने आते हैं परन्तु औरत से केवल खाने- पीने द्वारा आवभगत और घर की साफ़-सफ़ाई की ही उम्मीद की जाती है। घर में उसकी योग्यता उसके द्वारा प्रस्तुत किये गये खाने, नाश्ते और घर की सफ़ाई से आँकी जाती है। उसमें कहीं कोई चूक नहीं होनी चाहिये। नाश्ता गर्म बानाया गया हो और बाजार से ना मँगाया गया हो। खाने में अनेक प्रकार की चीजें हों तभी ग्रहणी योग्य मानी जाती है। उसने अपने जीवन में अन्य क्षेत्रों में अभी तक क्या हासिल किया है, इस बात से किसी को कोई मतलब नहीं होता। पुरूष वर्ग तो केवल बातें करके ही वाह-वाही लूट लेता है और उसका अतिथि-सत्कार का दायित्व पूरा हो जाता है। औरत को एक पल के लिये भी बैठने का समय नहीं मिलता।
नियमित दिनचर्या ही उन्हें चैन से नहीं बैठने देती, वहीं व्रत-त्यौहार और तरह-तरह के रीति-रिवाज उनको चक्रवात की भाँति घुमा देते हैं। पहले नौदुर्गा  के नौ व्रत या पड़वा और अष्टमी के व्रत से हिन्दी का साल प्रारम्भ होता है। स्त्रियों की भूखे रहकर साल की शुरुआत होती है। अधिकतर व्रत स्त्रियाँ  पति या अपनी संतान (लड़कों) के लिये रखती हैं। एकादशी, पूर्णिमा हर महिने रखने वाले व्रत, फिर हर हफ़्ते होने वाले व्रत अलग चलते रहते हैं। अधिकतर व्रत पति या लड़कों की आयु, धनसम्पत्ति अथवा स्वास्थ्य से जुड़े रहते हैं। जिन स्त्रियों का समाज में कोई प्रतष्ठित स्थान नहीं है।उनमें व्रत के मामले में इतनी शक्ति  आ जाती है कि ऐसा  लगता है कि उनके व्रतों से ही पुरूष-समाज का जीवन चलता है। कुछ व्रत इच्छा से रखे जाते हैं तो कुछ आवश्यक कर दिये जाते हैं। आवश्यक व्रतों को ना रखने की सोचना ही महिलाओं को समाज के कारण भयभीत कर देता है। जन्माष्टमी के व्रत में कृष्ण भगवान के जन्म लेने पर व्रत रखा जाता है। जबकि किसी के पैदा होने पर व्रत रखने का कोई औचित्य नहीं है। ये व्रत यदि घर के सभी सदस्य रखते हैं तो एक उत्सव सा हो जाता है। खास तरह का खाना औरतों का काम बढ़ाता है। हरतालिका का अत्यन्त कठिन होता है। इसके आने से पहले से औरतों में एक घबराहट होने लगती है । वो ये मनाती हैं कि किसी तरह से ये व्रत अच्छी तरह निकल जाये। भूखे प्यासे रहने के कारण शाम आते-आते अधिकांश औरतें सिर-दर्द और कमजोरी के कारण बिस्तर पर पड़ जाती हैं। इस बीच वो घर के रोज के बँधे कार्यों के लिये उठती हैं क्योंकि वो उन्हें ही करने होते हैं। इस व्रत के हो जाने पर वो शायद साल भर के लिये राहत की साँस लेती होंगी। इसीलिये शायद इस दिन बहुत सी स्त्रियाँ एकत्रित होती हैं कि एक दूसरे पर निगरानी रख सकें कि व्रत रखा है या नहीं। कुछ स्त्रियाँ  करवा चौथ का व्रत भी इसी तरह रखती हैं।
त्यौहारों  की बात करें तो होली एक मस्ती का त्यौहार है पर होली के बाद दौज पर भी स्त्रियों को आने वालों की आवभगत के लिये स्पेशल खाना बना होता है अर्थात घर में कुछ भी हो औरतों को रोज से अधिक खाना बनाना ही होता है, जो उनकी थकान का कारण बनता है। इसी प्रकार दिवाली की दौज पर होता है। कुछ स्त्रियाँ स्वयं पर गर्व करने का कारण समझ कर बढ़-बढ़ कर काम करती हैं क्योंकि उनके जीवन में इसके सिवा करने को कुछ नहीं रहता। व्रत हो तो भूखे रहना पड़ता है और त्यौहार, रीतिरिवाजों में खाना बनाना पड़ता है। रक्षाबन्धन पर तो राखी बाँधनी हो या नहीं पर औरतें पूरे दिन ही काम में लगी रहती हैं। हर त्यौहार पर कुछ खास खाने की चीज आवश्यक कर दी गई है जिसके बनाये बिना त्यौहार माना ही नहीं जाता। होली पर गुझियाँ, जन्माष्टमी पर पाग ,सकट चौथ पर तिल के लड्डू, गणेश चौथ पर बेसन के लड्डू, रक्षाबन्धन पर सिवईं  की खीर अर्थात कैसा भी अवसर हो औरतों का ध्यान खाना बनाने में ही लगा रहना चाहिये। प्रत्येक अवसर पर घर को साफ़ रखना भी औरत का ही कर्तव्य है। घर में रहते सब हैं पर औरत ही घर को व्यवस्थित करने में लगी रहती है क्योंकि अतिथि उसकी खातिरदारी को परखने के साथ घर की साज-सज्जा के आधार पर भी स्त्रियों को आँकते हैं।
व्रत त्यौहारों के अतिरिक्त महिलाओं को श्राद्ध पक्ष या पितृ पक्ष के समय साँस लेने का समय नहीं मिलता। पितृ पक्ष में लड़कों और आदमियों के पितरों का श्राद्ध होता है। जिसमें ब्राम्हण या ब्राम्हणी को खाना खिलाते हैं। इनकी संख्या एक या कितनी भी हो सकती है। साथ में पुरूष अपने रिश्तेदारों को भी खाने पर बुलाते हैं। खाने वालों की संख्या बढ़ जाती है पर खाना बनाती औरत ही है। पन्द्रह दिन में पुरूष के परिवार के कितने भी श्राद्ध हो सकते हैं। वैसे किसी की मृत्यु पर तेरहवीं, बरसी या चौबरसी पर तो आराम से हलवाई खाना बनाता है पर श्राद्ध में बाजार से कुछ मँगाने में आपत्ति जताई जाती है। इनमें तो ग्रहणी के बनाने से ही निष्ठा दिखती है। ऐसे में कई औरतें बीमार होने पर भी गिरते-पड़ते श्राद्ध का खाना बनाती ही हैं। पुरूष इसमें साथ देते नहीं हैं क्योंकि उन्होंने ये काम तो औरत के लिये ही नियत किये हैं।
स्त्रियों के जीवन का यही सच है। इसी सच के साथ जीती हुई वो अपना जीवन खत्म कर देती हैं। आवश्यकता है कि इस सच को बदला जाये। स्त्रियाँ अपनी खोई हुई रुचियों और प्रतिभा को पुनः जगाएँ। घर को ही अपना जीवन-क्षेत्र ना मानें। इसके अतिरिक्त भी दुनिया में बहुत कुछ है। कुछ करने के लिये घर से बाहर कदम निकालने की हिम्मत करनी चाहिये।  कोई भी काम किसी के लिये असम्भव नहीं होता। घर की चारदीवारी में रहतेरहते स्त्रियाँ इतना आत्मविश्वास खो देती हैं कि अचानक आवश्यकता पड़ने पर वो स्वयं की भी मदद नहीं कर पातीं। आर्थिक स्वतन्त्रता के ना होने से ही स्त्रियाँ समाज के बनाये हुए जाल में फ़ँसी रह जाती हैं। जिससे वो जीवन भर नहीं निकल पातीं हैं। स्त्रियाँ कोई एक रास्ता चुन कर उससे प्रारम्भ करें। अनेक दूसरे रास्ते स्वयं ही जुड़ते जाते हैं और जीवन की शुष्कता समाप्त होकर उसमें ताजगी का आभास होता है। कुछ भी शुरू करने के लिये कभी देर नहीं होती। 
अमिता चतुर्वेदी 

7 comments:

  1. समाज के ठेकेदारों के द्वारा बनाए गए "घर और बाहर" के कृत्रिम विभाजन को ध्वस्त करने के लिए रीति-रिवाज से बने ढांचों पर इस तरह के प्रहार आवश्यक हैं। घर में भी राजनैतिक हस्ताक्षेप उतना ही आवश्यक हैं जितने बाहर की दुनिया में

    ReplyDelete
    Replies
    1. इन सभी बातों की सहमति स्त्रियों के लिये आवश्यक है।

      Delete
  2. tumhari baaton se poori tarah sahmat hain

    ReplyDelete
  3. Not to worry.The coming generation of girls are going to change all this. I don't think Sneha will grow up to follow all these rituals nor is she going to make sweets and snacks at home like us.The future is bright all girls will study well earn well and live a life of independence and self reliance. It's the boys turn to bring changes in their mindset and stop expecting their wives to do what their mothers have done.

    ReplyDelete
  4. समाज के इन शिकंजों से स्वतंत्र होने के लिये इस प्रकार की सोच आवश्यक है। एक समर्थन के साथ एक और समर्थन मिलने से बहुत प्रसन्नता हुई।

    ReplyDelete
  5. इतनी important बात इतनी सरल शब्दों में
    लिखी है आपने। I totally agree with
    your thoughts

    ReplyDelete
  6. आपकी सारगर्भित टिप्पणी के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद। पाठकों की टिप्पणी प्रोत्साहित करती है।

    ReplyDelete